न्यायालय सह वन विभाग ने केंदुआ के आधा दर्जन लोगों को वन भूमि अतिक्रमण का दिया नोटिस

न्यायालय सह वन विभाग ने केंदुआ के आधा दर्जन लोगों को वन भूमि अतिक्रमण का दिया नोटिस

योगेंद्र 15 माह से नापी कवाने के लिए वन विभाग का लगा रहा चक्कर, कहा अतिक्रमण सिद्ध नही हुआ तो वनपाल पर करेंगे दिमागी शोषण का केस

Barhi Live : Harendra Rana

चौपारण प्रखंड के जगदीशपुर पंचायत के ग्राम केंदुआ निवासी योगेंद्र साव ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि न्यायालय, समाहर्ता सह वन प्रमंडल पदाधिकारी हजारीबाग पश्चिमी वन प्रमंडल ने 2 जून 2018 में नोटिस जारी किया है। योगेंद्र साव ने बताया कि न्यायालय के पत्रांक 3107, बीपीएलई नंबर 29/2018 एवं जी (एफ) नंबर 626/2017 के माध्यम से नोटिस जारी कर एक एकड़ 46 डिसमिल वन भूमि पर अतिक्रमण कर आवास बनाकर रहने एवं खेती करने का आरोप लगाया है। न्यायालय, समाहर्ता सह वन प्रमंडल पदाधिकारी हजारीबाग पश्चिमी वन प्रमंडल के नोटिस का सम्मान करते हुए 11 जून 2018 से दर्जनों बार चक्कर लगाकर अतिक्रमण किया गया भूमि का खाता नंबर और प्लॉट नंबर की जानकारी मांगी है। वन प्रमंडल पदाधिकारी हजारीबाग पश्चिमी वन प्रमंडल ने कई बार आश्वासन दिए कि जल्द ही नापी कर अतिक्रमणकारियों के खिलाफ करवाई किया जाएगा और जिनका नाम गलती से दिया होगा। उसे मामला से बरी कर दिया जाएगा। इस संबंध में अतिक्रमण के खिलाफ मामला दर्ज करने वाले वनपाल श्यामसुंदर सिंह ने बताया कि केंदुआ मौजा में कई लोग वन भूमि का अतिक्रमण किया है। नापी कर अतिक्रमणकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वहीं वनप्रक्षेत्र पदाधिकारी कोरा बाड़ा ने कहा कि 2 से 3 दिन के अंदर वन भूमि का नापी किया जाएगा और अतिक्रमणकारियों को बक्सा नही जाएगा। वन विभाग द्वारा लगाया गया आरोप का आरोपी योगेंद्र साव ने कहा कि जल्द ही वन विभाग द्वारा आरोप नापी कर सिद्ध नही किया तो दिमागी शोषण सह मानहानि का याचिका न्यायालय में दर्ज कर इंसाफ का गुहार लगाएंगे।

You may also like

कार्यकर्ता प्रखंड में समन्वय बनाकर चुनाव की तैयारी करें : मनोज

प्रखंडस्तरीय बूथ समिति व कार्यकर्ता सम्मेलन में उमड़े