बड़ाकर घाटी को पर्यटन स्थल के रूप में विकशित करना राज्य सरकार के हाथ में : रंजीत चन्द्रवंशी

बड़ाकर घाटी को पर्यटन स्थल के रूप में विकशित करना राज्य सरकार के हाथ में : रंजीत चन्द्रवंशी

बड़ाकर घाटी को पर्यटन स्थल के रूप में विकशित करना राज्य सरकार के हाथ में : रंजीत चन्द्रवंश

वन विश्रामागार स्थित पर्यटन स्थल हेतु डीवीसी ने राज्य सरकार को दिया अनापत्ति प्रमाण पत्र

Barhi live : Sonu pandit   बडाकर घाटी बरही को पर्यटन स्थल बनाने की मांग बहुत जल्द पूरा हो सकता है। यह जानकारी भाजपा नेता रंजीत चन्द्रवंशी ने दी।

उन्होंने कहा कि औपचारिक भेंट के क्रम में तिलैया पन बिजली केंद्र के वरीय प्रमंडलीय अभियंता, विद्युत अजित कुमार शर्मा ने बताया कि वन विश्रामागार स्थित पर्यटन स्थल हेतु डीवीसी ने अनापत्ति प्रमाण पत्र दे दिया है।

हजारीबाग उपायुक्त कार्यालय द्वारा एनओसी की मांग की गई थी। जिसके आलोक में उपयुक्त स्थल देखते हुए एनओसी जारी कर दिया गया है।

डीवीसी ने समय समय पर अपने जिम्मेवारियों का निर्वहन करता आया है। रंजीत चन्द्रवंशी ने कहा कि डीवीसी ने अपना काम कर दिया है, अब इस स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में घोषणा व विकसित करने की जिम्मेवारी राज्य सरकार की है।

जिस प्रकार से रघुवर दास के काल मे पतरातू डैम का कायाकल्प किया गया, ठीक उसी प्रकार से बराकर घाटी, बरही को भी विकसित कर बरही की नई पहचान गढ़ी जा सकती है। उन्होंने कहा कि घाटी व उसके आस पास का क्षेत्र प्रकृति का अनुपम उपहार है।

प्रकृति के गोद मे बसा यह घाटी, अपने ऊंचे पहाड़, घने जंगलों और वृहद जलाशय हमें अपनी ओर खींचता है। प्राकृतिक सौंदर्य का यह मनमोहक दृश्य अपनी ओर आकर्षित करता है।

मानो प्रकृति ने फुरसत के पल में इस स्थल को बनाया होगा। एनएच 33 और कोडरमा वाया हजारीबाग रेल लाइन भी इन वादियों के बीच से गुजरती है। सड़क के एक ओर हरे-भरे पहाड़, पेड़-पौधों से पटे हैं, तो दूसरी ओर स्वच्छ नीले जलाशय का विशाल डैम, जहां है अथाह पानी।

यदि इस जलासय को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया गया होता तो हजारों सैलानी खिंचे चले आते। आजाद भारत का पहला बांध भी रोजगार के नए कृतिमान लिख सकता था, किन्तु आजादी के बाद से आज तक नेतृत्व छमता की अभाव ने इस स्थान को बेगाना बनाए रखा।

सिंचाई हेतु पानी की व्यवस्था कर हजारों किसान के चेहरे पर खुशी लायी जा सकती थी। पर्यटन स्थल बनाकर हजारों युवाओं को रोजगार मुहैया कराया जा सकता था। पयर्टन का, भारत के कुल रोज़गार में 8.78 प्रतिशत योगदान है। पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होने से बरही के युवाओं को रोजगार का मौका मिलेगा।

You may also like

भाजयुमो ने मनाया नेता जी सुभाष चंद्र बोस की 125वी जयंती

भाजयुमो ने मनाया नेता जी सुभाष चंद्र बोस