Corona के दौरान बारिश के बदलते मिजाज़

Corona के दौरान बारिश के बदलते मिजाज़

 

मेघा बंसल

अगस्त का महीना चल रहा है । हर रोज सुबह की शुरुआत तेज़ बारिश की बूंदों से होती है। इस बारिश में एक अलग सा बदलाव हैं। जैसे हर साल इसी ही महीने में हर बार लोगो के जीवन में उल्लास रहता था । अपने तरीके से लोग मौसम को जीते थे। जैसे किसी के घर में पकोड़े और साथ में चाय के साथ इस मौसम का लुप्त उठाया जाता था । तो कहीं चिन्ता पूर्ण वातावर् रहता था। मोहाले से आवाज़ आ रही होती थी कि कपड़े ना भीग जाए । और कहीं तो बच्चे बारिश में खेल रहे हैं । हर तरफ चहल पहल का वातावरण रहता था।

पर ये साल कुछ अलग सा महसूस होता है। इस साल कोरोना महामारी ने दस्तक दी । और सबके जीवन को बदल डाला । इस साल को हम कोरॉना साल का नाम दे दिया गया हैं। कॉरोना के चलते लोगों के जीवन को बदल दिया है । रहन सहन से लेकर दिमागी सोच तक इसका गहरा प्रभाव पड़ा है। रोज़ बारिश तो होती है। पर महोले में बच्चे नहीं खेल रहे। गली के चौराहे पर बड़े भूढ़े साथ में चाय और न्यूजपेपर की पहली ख़बर पर चर्चा नहीं कर रहे। और नहीं बच्चे भीगते हुए सकूल जा रहें । इस महमारी ने एक झटके में सब बदल दिया । बस चारो और सन्नाटा है। केवल शोर हैं तो बारिश की बूंदों का। आशा है आने वाले साल सब ठीक हो जाए । सबकुछ पहले जैसा ।

You may also like

DSB FOUNDATION WINS BEST NGO AWARD

  DSB Foundation was presented with the prestigious