“एकल के राम” एकल भारत लोक शिक्षा परिषद – CSR समिति द्वारा सफल आयोजन किया गया

“एकल के राम” एकल भारत लोक शिक्षा परिषद – CSR समिति द्वारा सफल आयोजन किया गया

 

दिल्ली में ` एकल के राम ‘कार्यक्रम का आयोजन “एकल भारत लोक शिक्षा परिषद” के द्वारा किया गया । कार्यक्रम में श्री बजरंग लाल बागड़ा जी (प्रेसिडेंट CEC, एकल अभियान), नीरज रायजादा जी (कार्यकारी प्रधान, EBLSP) तथा श्री सुभाष सी. अग्रवाल जी (चेयरमैन , CSR समिति) ने “एकल ” पर बात करते हुये इसकी विशेषता पर विस्तृत से जानकारी दी। हम गांव को ,गांव से आने वाले बच्चों को बेहतर भविष्य के लिए तैयार करते है उन्हें अच्छे स्वास्थ्य और पढ़ाई के लिये प्रेरित करके एक बेहतर नागरिक बनाने के लिए दृढ़संकल्प है। इसी कड़ी में ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास अपनी बात पहुंचाने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया । कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली के शंगरीला एरोस होटल में शाम 6 बजे से विशेष प्रोग्राम के रूप में होगा I विशिष्ट अथिति के रूप में डॉ राकेश कुमार जी (डायरेक्टर जनरल, EPCH) और डॉ सुभाष चाँद जी (एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर (इलेक्ट) IRCON) ने कार्यक्रम की शोभा बढाई I उन्होंने एकल एवं भारत लोक शिक्षा परिषद् द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की तथा संस्था के मुख्य दानदाताओं को स्मृति चिन्ह प्रदान किया I CSR कमेटी के वाइस चेयरमैन अभय चिंता लिया, शेयर समाधान, CSR कमेटी के मेंबर राजेश गेलडा, ex-chairman NIRC-ICAI हरीश चौधरी, JITO नॉर्थ जोन के को- चेयरमैन सुक्रज सेठिया, वेरिटी सॉफ्टवेयर के विपुल कोचर, टीपीएफ नोएडा की प्रेसिडेंट आरती कोचर भी उपस्थित थे। शाम 7 बजे से रात 9 बजे तक डीडी भारती और संस्कार चैनल सहित देश के डिजिटल मीडिया यूट्यूब पर लाइव चलाया गया। एकल के राम और एकल अभियान देश में अग्रणी सामाजिक संगठन के रूप में करोड़ों गरीब ग्रामवासियों के शैक्षणिक एवं सामाजिक सशाक्तिकरण के लिए काम कर रही है। जिसमें एक गांव, एक शिक्षक, एक विद्यालय के कल्पना पर इसे संचालित किया जा रहा है। इसकी शुरुआत 1988 में झारखंड में 60 विद्यालयों के साथ कि गई थी। आज एक लाख से अधिक विद्यालयों के साथ जुड़कर एकल समाज के पिछड़े इलाकों और ग्रामीण भारत में शिक्षा की अलख जगा रहा है। 28 लाख से ज्यादा बच्चें इसके साथ वर्तमान में जुड़े हुये है।
समाज में एकल के अनूठे प्रयास को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए इस बार प्रसिद्ध कवि डॉ कुमार विश्वास अपनी स्वर में शिक्षा में भगवान राम की प्रासंगिकता, उनके कुशल प्रबंधन कौशल और राम राज्य, राम की प्रासंगिकता से जुड़े कुछ तथ्यों को आम लोगों के सामने रखा । कुमार विश्वास ये बताएंगे कि आज के समय में भगवान की बात करना क्यों जरूरी है और कैसे उन्हें हम अपने जीवन मे उतार सकते है। डॉक्टर विश्वास अपनी चिरपरिचित कविता पाठ की शैली में सोशल मीडिया पर राम की बात करके पहले ही काफी चर्चा बटोर चुके है इसलिए इस बार भी वही जादू लोग साक्षात लाइव देखा और सुना गया ।

इस कार्यक्रम का उद्देश्य अधिक से अधिक लोगो को एकल अभियान से जोड़ना और आम जनता को इस बात से अवगत कराना है कि कैसे एकल भारत अभियान देश के ग्रामीण क्षेत्रो को मजबूत बनाने के लिए दिन रात काम कर रहा है और इस कार्यक्रम के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगों को एकल से जोड़ने के लिए ऐसे कार्यक्रम किए जाते हैं ये कार्यक्रम भी इसी उद्देश्य के साथ आयोजित किया जा रहा जाते है। एक बड़ा बौद्धिक तबका और ऐसे लोगों का समूह जो शिक्षा को सुधारने के लिए अपना बहुमूल्य योगदान देते है समय समय पर एकल के साथ जुड़े हुए है। क्योंकि ग्रामीण इलाकों और गरीब बच्चों के पास भी पढ़ाई और जीवन स्तर सुधारने के लिए पहल होनी चाहिए। एकल ने 1988 में झारखंड से अपनी यात्रा शुरू की । आज एक लाख से ज्यादा देश के ग्रामीण आंचल में स्कूल है और जिसमे तीस लाख से बच्चे हर साल एकल के विद्यालय में पढ़ रहे है।ये देश की अग्रणी संस्था है जो एक स्कूल एक शिक्षक का अभियान चलाती है और वन वासी और ग्रामीण बच्चों को शिक्षित करती है।

About the author

You may also like

Swa Awards 2021: स्क्रीनराइटर्स एसोसिएशन लेकर आ रहे हैं लेखकों और गीतकारों के लिए १५ श्रेणियों में आवेदन !

  उत्कृष्टता के तेज को एक बार फिर