रियाडा में स्थानीय युवाओं को रोजगार, चरमराती बिजली व्यवस्था और पीडीएस में घोटाले को लेकर भाजयुमो ने एसडीओ को सौंपा आवेदन

243

जांच नहीं होने पर भारतीय जनता युवा मोर्चा करेगी आंदोलन

Barhi live : Sonu pandit रियाडा स्थित कंपनियों में 75 फीसदी स्थानीय युवाओं को रोजगार देने की मांग, चरमराती बिजली व्यवस्था और पीडीएस में घोटाले को लेकर भारतीय जनता युवा मोर्चा और भारतीय जनता पार्टी की एक शिष्टमंडल ने अनुमंडल पदाधिकारी नाजिया अफरोज को ज्ञापन सौंपा।

शिष्टमंडल में भाजपा जिला उपाध्यक्ष रमेश ठाकुर, ओ बी सी मोर्चा उतरी छोटा नागपुर प्रमंडल प्रभारी किशुन यादव, भाजपा प्रदेश मीडिया सेल रंजीत चन्द्रवँशी, भाजयूमो जिला आईटी सेल संयोजक शिवम आनंद, बरही पूर्वी मंडल अध्यक्ष रितेश केशरी, बरही पश्चमी मंडल अध्यक्ष अमित सिंह, मुंशी रजक, संतोष कुमार शर्मा, निकेश कुमार सिंह शामिल थें।

आवेदन के माध्यम कहा गया है कि रियाडा स्थित कंपनियों में बरही के स्थानीय युवाओं को दरकिनार किया जा रहा है। बरही क्षेत्र के आस पास के युवाओं में काबिलयत होने के बावजूद भी कंपनियां स्थानीय युवाओं को रोजगार देने में उदासीनता बरत रही है। एन केन प्रकारेण स्थानीय युवाओं को नौकरी देने से इनकार किया जा रहा है।

राज्य की हेमन्त सरकार ने विधानसभा में ऐलान किया था कि झारखंड में प्राइवेट नौकरियों में स्थानीय लोगों को आरक्षण दिया जाएगा। औद्योगिक इकाइयों, फैक्ट्री, संयुक्त उद्यम और पीपीपी मॉडल पर आधारित प्रोजेक्ट में 75 फीसदी नौकरियां स्थानीय लोगों के लिए रिजर्व रहेगा।

इसके मुताबिक, राज्य में प्रति महीने 30,000 रुपये तक वेतन वाली निजी क्षेत्र की 75 फीसदी नौकरियां स्थानीय उम्मीदवारों के लिए आरक्षित होंगी। किन्तु बरही में इन घोषणाओं की धज्जियां उड़ाई जा रही है। रियाडा में लगी कंपनियों में 75 फीसदी रोजगार स्थानीय युवाओं को दिया जाए।

बरही में लगातार बिजली की व्यवस्था चरमराई हुई है। बद्दतर बिजली व्यवस्था के खिलाफ आम लोगों में आक्रोश है। बिजली व्यवस्था में सुधार किया जाए।

इसके साथ ही जन वितरण प्रणाली के तहत कार्डधारियों को कोरोना काल में मई महीने से डबल राशन दिया जा रहा है किंतु बरही प्रखंड के ज्यादातर पंचायतों में कार्डधारियों का हक अधिकार घोटाले की भेंट चढ़ गई है। कार्डधारियों को खाद्य आपूर्ति विभाग द्वारा राशन आपूर्ति की जाती है।

जबकि यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना काल के दौरान गरीबों की आमदनी पर आई आफत को देखते हुए मई महीने से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 5 केजी प्रत्येक लाभुक को राशन दिया जाना तय हुआ है। किन्तु कार्डधारियों को डबल राशन के बजाए सिंगल राशन ही दिया जा रहा है।

अंत्योदय कार्ड को 35 किलो मासिक 21 किलोचावल 14 किलो गेंहू और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत पर व्यक्ति 5 किलो दिया जाना है। जबकि P H कार्ड वालों को प्रत्येक व्यक्ति 3 किलो चावल, 2 किलो गेहूं और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत प्रत्येक व्यक्ति 3 किलो चावल 2 किलो गेंहूँ मई से नवम्बर तक दिया जाना है।

किन्तु आधा अधूरा राशन ही दिया जा रहा है। जिन कार्डधारियों को 60 केजी चावल गेहूं मिलना था उन्हें सिर्फ 30 केजी ही प्राप्त हो रहा है। जानकारी के अभाव में गरीबों का हक हिस्सा कालाबजारी करने वाले खा रहे हैं।

युवा मोर्चा ने मामले में प्रशासन से जांच करवाते हुए दोषियों पर कानूनी कार्रवाई करने की अपील किया है। साथ ही कार्रवाई नहीं होने की स्थिति में आंदोलन करने की बात कही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here