केवलिया, बहादुर व देवचन्दा डैम में विधायक ने मत्स्य विभाग द्वारा डाला तीन लाख अंगुलिका का किया संचयन

केवलिया, बहादुर व देवचन्दा डैम में विधायक ने मत्स्य विभाग द्वारा डाला तीन लाख अंगुलिका का किया संचयन

केवलिया, बहादुर व देवचन्दा डैम में विधायक ने मत्स्य विभाग द्वारा डाला तीन लाख अंगुलिका का किया संचय

Barhi live : Sonu pandit

निवेदन समिति के सभापति सह बरही विधायक उमाशंकर अकेला ने जरहिया डैम, बहादुर डैम व देवचन्दा में करीब तीन लाख मछली के अंगुलिकाएँ छोड़ें।

मत्स्य उत्पादन एवं विस्थापितों के जीविकोपार्जन को लेकर मत्स्य विभाग दृढ़ संकल्पित हैं। राज्य सरकार की जलाशय मत्स्य विकास योजना अंतर्गत केवलिया डैम, बहादुर डैम व देवचन्दा में अंगुलिकाएँ मत्स्य बीज संचयन किया गया।

जिसमें तीन लाख मत्स्य अंगुलिकाएँ रेहु, कतला, मिर्गल का संचयन किया गया। संचयन कार्य की शुरुआत निवेदन समिति के सभापति सह बरही विधायक उमाशंकर अकेला, जिला मत्स्य प्रसार पदाधिकारी रजनी गुप्ता, मत्स्य पर्यवेक्षक राजकुमार, स्थानीय मुखिया सुरेंद्र यादव व कांग्रेस नेता अब्दुल मनान वारसी सहित विभिन्न कांग्रेसी नेताओं के द्वारा संयुक्त रूप से मछली अंगुलिकाएँ केवलिया डैम, बहादुर डैम व देवचन्दा में संचयन के लिए छोड़ा गया।

मौके पर जिला मत्स्य प्रसार पदाधिकारी रजनी गुप्ता ने बताया कि इस डैम से होने वाले विस्थापितजनों का जीविकोपार्जन के लिए इसका संचयन प्रत्येक वर्ष कराया जाता हैं। साथ ही अंगुलिकाएँ डालने से डैम के स्टॉक को बढ़ाना मुख्य उद्देश्य है।

उन्होंने बताया कि अंगुलिकाओं का संचयन कार्य डैम में स्थानीय मत्स्य शिकारमाही कर जीवकोपार्जन एवं जलाशय में मछली की उत्पादन बढ़ाने के लिए किया जाता है।

स्थानीय लोगो ने विधायक को इस डैम के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। बताया कि यह डैम पशुपालन विभाग के जमीन पर स्थित हैं, जिसे मत्स्य विभाग को स्थानांतरण करवाने का आग्रह किया।

विधायक ने आश्वासन दिया कि मामले को सम्बन्धित मंत्री बादल पत्रलेख को अवगत करवाऊंगा। साथ ही कहा कि जल्द ही बरही को मछली के राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय बाजार से जोड़ने का काम करूंगा, इनके व्यापार को गति देने का काम अवश्य करूँगा।

तांकि यहां के मछली विक्रेता को बाजार उपलब्ध हो पाए। मौके पर नंदू यादव, सुरेंद्र यादव, अब्दुल मनान वारसी, मुखिया प्रतिनिधि उदय यादव, ओबीसी प्रकोष्ठ प्रखण्ड अध्यक्ष सुनील साहू, कुणाल कतरियार, मंटू सिंह, देवचंद यादव, नवाब मियां, शरीफुल हक़, रंजीत निषाद शामिल थे।

You may also like

झारखंड पेंशनर कल्याण सह बुद्धिजीवी मंच ने आवेदन देकर एसडीओ को बरही की जन समस्यायों से कराया अवगत

झारखंड पेंशनर कल्याण सह बुद्धिजीवी मंच ने आवेदन