पंचमाधव पंचायत के जरहिया गांव में मुखिया ने गोकुल ग्राम विकास केंद्र का किया उद्घाटन

पंचमाधव पंचायत के जरहिया गांव में मुखिया ने गोकुल ग्राम विकास केंद्र का किया उद्घाटन

पंचमाधव पंचायत के जरहिया गांव में मुखिया ने गोकुल ग्राम विकास केंद्र का किया उद्घाट

जरहिया में पुरुष के साथ महिलाएं भी गौ पालन कर बन रही हैं स्वावलंबी : हरेंद्र गोप

Barhi live : Sonu pandit

पंचमाधव पंचायत के जरहिया गांव में गोकुल ग्राम विकास केंद्र का उद्धघाटन कर दूध लेना प्रारम्भ किया गया।

गोकुल ग्राम विकास केंद्र का उद्घाटन स्थानीय मुखिया हरेंद्र गोप ने फीता काटकर किया। इस मौके पर जरहिया के ग्रामीण किसानों में काफी उत्साह और खुशी की लहर देखने को मिला।

इस अवसर पर मुखिया हरेंद्र गोप ने कहा कि बरही प्रखंड का पंचमाधव पंचायत एक कृषि आधारित पंचायत है।

यहां पशुधन को आम तौर पर ग्रामीणों के लिए आजीविका के लिए एक प्रमुख संपत्ति मानी जाती है। उन्होंने बताया कि गांव की महिलाओं ने गौ सेवा के जरिए जब स्वावलंबन की राह पकड़ी तो गरीबी इस गांव का रास्ता भूल गई।

वर्तमान में जरहिया गांव समेत पंचमाधव पंचायत गोकुल ग्राम की ओर अग्रसर है। जिला गव्य विभाग के द्वारा पंचायत के जरहिया क्लस्टर में करीब 25 लाख की लागत से गोकुल ग्राम विकास केंद्र जरहिया भवन बनाया गया है।

गोकुल ग्राम बनाने में अहम योगदान दे रहे मुखिया हरेंद्र गोप स्वयं एक अच्छे पशुपालन व कृषक भी हैं। उन्होंने बताया कि सिर्फ जरहिया गांव में 200 लीटर प्रतिदिन दूध का उत्पादन किया जाता है।

केंद्र नहीं रहने के कारण पशुपालक औने-पौने दामों में दूध बेच देते हैं, जिससे उन्हें आर्थिक हानि होती है। इस दर्द को उन्होंने जिला गव्य विकास पदाधिकारी के पास रखा।

गव्य विकास विभाग ने निरीक्षण कर यहां के लोगों के पशुपालन के प्रति रुचि एवं दूध उत्पादन करने की क्षमता को देखते हुए गोकुल ग्राम बना दिया।

मुखिया श्री गोप बताते हैं कि जरहिया में गोकुल विकास केंद्र खुल जाने से यहां के पशुपालकों को काफी लाभ मिलेगा।

केंद्र में दूध उत्पादकों को सही मूल्य मिलेगा, अधिक से अधिक लोग दूध उत्पादन कर रोजगार से जुड़ेंगे। यहां से दूध संग्रह होकर सरकार की मेगा डायरी रांची या कोडरमा जाएगा।

पंचमाधव पंचायत के एक सौ बीपीएलधारी महिला पशुपालक लाभुकों के बीच गव्य विकास विभाग द्वारा 90 फीसदी सब्सिडी पर दो-दो दुधारू गाय भी दिया जा रहा है। अब तक करीब 30 महिलाओं को दुधारू गाय दिया भी जा चुंका हैं।

जिससे महिलाएं घर का कामकाज करते हुए स्वावलंबी बनने का कार्य कर रही है। ग्रामीण किसान बताते हैं कि इस कार्य में बसरिया पंचमाधव के मुखिया हरेंद्र गोप का अहम योगदान रहा हैं। मौके पर नागेश्वर कुमार रजक, शशि भूषण यादव, नरेश यादव, पप्पू यादव, राजकुमार यादव, संतोष कुमार, सुभाष कुमार, अवधेश कुमार, काली यादव, घनश्याम यादव, मुंशी यादव आदि ग्रामीण उपस्थित थे।

You may also like

बिजली चोरी को लेकर चार पर प्राथमिकी दर्ज

बिजली चोरी को लेकर चार पर प्राथमिकी दर्ज