पतरातू डैम एवं आस पास आतंक मचाने वाले टीएसपीसी के 2 सदस्य को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

पतरातू डैम एवं आस पास आतंक मचाने वाले टीएसपीसी के 2 सदस्य को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

रेगुलर राइफल, 9 एमएम का देसी पिस्तौल, एक मोबाइल और एक बाइक बरामद

बरही लाइव

पतरातू डैम एवं आसपास के क्षेत्र में आतंक मचाने वाले टीएसपीएसी के दो सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है । पुलिस को टीएसपीसी के सदस्यों को गिरफ्तार करने की चुनौती थी इसी चुनौती को स्वीकार करते हुए रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। उन्होंने पतरातू डैम में आतंक मचाने वाले और उस पूरे एरिया को गोलियों की तड़तड़ाहट से गुंजाने वाले टीएसपीसी नक्सली संगठन के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इस पूरे मामले की जानकारी उन्होंने सोमवार की शाम प्रेस वार्ता कर दी। उन्होंने बताया कि दोनों नक्सलियों के पास से एक रेगुलर राइफल, 9 एमएम का एक देसी पिस्तौल, एक मोबाइल और एक अपाची बाइक जप्त किया गया है।
एसपी प्रभात कुमार ने बताया कि गिरफ्तार नक्सली अशोक गंजू और अर्जुन करमाली हजारीबाग जिले के केरेडारी थाना क्षेत्र अंतर्गत बुण्डू गांव के रहने वाले हैं। रविवार की रात पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि टीएसपीसी संगठन के कुछ नक्सली पतरातू थाना क्षेत्र क्षेत्र में घूम रहे हैं। उनकी मंशा किसी बड़े वारदात को अंजाम देने की है। इस सूचना के बाद एसपी के निर्देश पर पुलिस ने तत्काल नक्सलियों की गिरफ्तारी के लिए जाल बिछाया और छापेमारी भी शुरू कर दी। पुलिस ने पेट्रोलिंग के दौरान सोलिया से पतरातू जाने वाली सड़क पर वाली सड़क पर उच्चरिंगा के पास यह देखा कि एक काले रंग की अपाची बाइक पर सवार दो व्यक्ति अपनी गाड़ी को छोड़कर खेत में हथियार के साथ भाग रहे हैं। पुलिस ने उनका पीछा किया और उन दोनों को गिरफ्तार कर लिया। जब उन दोनों से पूछताछ की गई उन्होंने बताया कि 28 फरवरी 2019 को वे लोग मोटरसाइकिल से पतरातू डैम परिसर में पहुंचे थे। वहीं पर पर्यटन विभाग के निर्माणाधीन ईएसएस ब्लॉक भवन के पास उन्होंने लेवी के लिए पर्चा छोड़ा और आतंक फैलाने के लिए गोलीबारी भी की। इस दौरान उन्होंने पर्चा पर एक मोबाइल नंबर भी छोड़ा था। जिससे संपर्क करने के लिए ठेकेदार को कहा गया था।

मोबाइल धारक पहले ही भेजे जा चुके हैं जेल —
एसपी प्रभात कुमार ने बताया कि नक्सलियों ने लेवी के लिए पर्चा पर जो मोबाइल नंबर छोड़ा था, उसके धारकों को पहले ही जेल भेजा जा चुका है। उन्होंने बताया कि नक्सलियों ने नंदन कुमार और विश्वनाथ लोहरा का मोबाइल इस नक्सली घटना को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल किया था। उन दोनों को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

About the author

You may also like

झामुमो विस् प्रभारी ने जिला जिला उपायुक्त को दो सूत्री मांग पत्र सौंपा

झामुमो विस् प्रभारी ने जिला जिला उपायुक्त को