पहुंच पथ बनाए बिना बन रहा है 40 लाख की लागत से विवाह भवन, प्रमुख ने की जांच ग्रामीणो ने कहा कि पहले जर्जर एवं पहुंच पथ बने, फिर बने विवाह भवन, तभी भवन बनाना सार्थक होगा

पहुंच पथ बनाए बिना बन रहा है 40 लाख की लागत से विवाह भवन, प्रमुख ने की जांच ग्रामीणो ने कहा कि पहले जर्जर एवं पहुंच पथ बने, फिर बने विवाह भवन, तभी भवन बनाना सार्थक होगा

Barhi live  : Sonu pandit

रूर्बन मिशन योजना के तहत बेंदगी पंचायत अंतर्गत तिलैया रोड उज्जैना उत्सव वाटिका के समीप 40 लाख की लागत से विवाह भवन बनाया जा रहा है। लेकिन जिस स्थान पर इतनी लागत से विवाह भवन बनाया जा रहा है। उस स्थान तक पहुंच पथ बनाया नही गया है। तिलैया रोड एनएच 31 से विवाह भवन तक की दूरी लगभग 600 मीटर है। हैरत की बात है कि पंचायत मुखिया का कार्यकाल लगभग समाप्ति की ओर है। पंचायत में मुखिया मद में लाखे रूपए आए लेकिन इस समस्या की ओर मुखिया का ध्यान नही गया। जबकि इस मुहल्ले के लोगों ने मुखिया से सडक मरम्मती एवं पक्कीकरण के लिए कई बार गुहार लगा चुके हैं। लेकिन उनके द्वारा केवल टाल मटोल किया जाता रहा है। जिसके कारण मुखिया एवं मुखिया प्रतिनिधि दिनेश साव के खिलाफ गहरा आक्रोश है। शुक्रवार को प्रखंड प्रमुख मंजु देवी विवाह भवन के ऑचक निरीक्षण करने के लिए पहुंची। उनके द्वारा बताया गया कि जिस जगह पर भवन बनाया जा रहा है। वहां तक जाने के लिए सफक नही बनाई गई है। जर्जर सडक है। जहां तहां बडे बडे गढे हैं। पहले सडक बनना जरूरी था। उसके बाद ही भवन बनने का कोई औचित्य है। उन्होने कहा कि यदि मुखिया इस ओर ध्यान नही दे रहें है, तो वे जिला परिषद से बात करेंगे। विदित हो कि पहुंच पथ नही बनने एवं जर्जर सडक होने के कारण वाहनों का आना जाना मुशिकल है। मालवाहक वाहन निर्माण स्थल तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। जिसके कारण निर्माण सामग्री नही पहुंच पा रही है। लिहाजा विवाह भवन का निर्माण कार्य सामग्री के अभाव कच्छप गति से चल रही है। संवेदक ने भी अपनी मजबूरी बयान करते हुए कहा कि जहां उनहे भवन बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। वहां भवन बनने से पहले पक्की सडक का बनना जरूरी था। लेकिन मुखिया एवं अन्य एजेसियों की उदासीनता के कारण अब तक जर्जर सडक नही बन पाया है। हैरत की बात है की इस रोड की हालत पिछले 10 सालों से ऐसा ही है। वर्तमान एवं पूर्व दोनो विधायक इस रोड में आना जाना कर चुके हैं लेकिन अब तक दोनों में किसी ने भी सुध नही ली है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यदि सडक नही बनती है तो क्या फायदा 40 लाख की भवन बनाने से। बिना सडक के यह भवन अनुपयोगी हो जाएगी। बरसात में पैदल चलना मुश्किल हो जाता है। इसलिए पहले सडक की पक्कीकरण हो उसके बाद ही भवन निर्माण होना सही रहेगा। मौके पर प्रमुख मंजु देवी, देवनंदन यादव, कपिल केशरी, रितेश कुमार, सुजीत प्रधान, अनुज यादव, सोनू पंडित आदि लोग मौजूद थे।

You may also like

खोड़ाहार पंचायत में ग्राम सभा सम्पन्न, राजेन्द्र नारायण सिंह चुने गए कार्यकारी समिति सदस्य

खोड़ाहार पंचायत में ग्राम सभा सम्पन्न, राजेन्द्र नारायण