श्रद्धानंद का जीवन त्याग और बलिदान को समर्पित था : प्राचार्य एके सिंह

श्रद्धानंद का जीवन त्याग और बलिदान को समर्पित था : प्राचार्य एके सिंह

डीएवी पब्लिक स्कूल बरही में श्रद्धानंद बलिदान दिवस के अवसर पर श्रद्धानंद को किया गया याद

श्रद्धानंद का जीवन त्याग और बलिदान को समर्पित था : प्राचार्य एके सिं

Barhi live : Sonu pandit

डीएवी पब्लिक स्कूल बरही के प्रांगण में स्वामी श्रद्धानंद को उनके बलिदान दिवस के अवसर पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई।

कार्यक्रम का शुभारंभ वैदिक मंत्रोचार के साथ दीप प्रज्वलन और माल्यार्पण से किया गया। डीएवी पब्लिक स्कूल बरही के प्राचार्य अशोक कुमार सिंह ने सभी शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि स्वामी श्रद्धानंद डीएवी आंदोलन के सूत्रधार थे।

शिक्षा के द्वारा समाज को बदलने की सोच रखते थे। स्वामी श्रद्धानंद स्वाधीनता, स्वराज, शिक्षा तथा वैदिक धर्म के प्रचार प्रसार के लिए अपना सारा जीवन समर्पित कर दिया था।

उन्होंने कहा कि बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने भी कहा था कि श्रद्धानंद अछूतों के महानतम और सबसे सच्चे हितैषी हैं।

अपने जीवन के पूरी क्रियाकलाप से यह सिद्ध कर दिया था कि वे सच्चे रूप में दयानंद के हनुमान थे। कार्यक्रम में भजन की प्रस्तुति अमित कुमार चतुर्वेदी ने किया।

शिक्षकों को संबोधित करते हुए धर्मेंद्र कुमार ने कहा कि आजादी के लिए तथा रौलट एक्ट के विरोध में श्रद्धानंद ने अपना पूरा दमखम दिखाया था।

हिंदू मुस्लिम एकता के लिए भी उन्होंने जामा मस्जिद में मंत्रोचार किया था। मंच का संचालन करते हुए राजेश कुमार सिन्हा ने बताया कि छुआछूत के खिलाफ और हिंदू धर्म को जनसमूह के दिल में बैठाने हेतु उन्होंने अपना सारा जीवन समर्पित कर दिया।

वे अपने विचारों से आज भी हमारे दिलों में जिंदा हैं। अनिल कुमार के द्वारा एक स्वरचित कविता प्रस्तुत की गई। जिसमें उन्होंने बताया कि श्रद्धानंद का जीवन सबों के लिए अनुकरणीय है।

संस्कृत शिक्षक विजय कुमार ने श्रद्धानंद के बारे में बोलते हुए बताया कि किस प्रकार मुंशीराम श्रद्धानंद बने और इन्होंने अपना सारा जीवन हिंदी भाषा के विकास के लिए समर्पित कर दिया था।

श्रद्धानंद का जीवन किस प्रकार अपने आप में सुधार कर दूसरों को प्रेरित कर सकता है इसका एक अनूठा मिसाल प्रस्तुत करता है।

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में सभी शिक्षक व शिक्षिकाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही। इस अवसर पर नरसिंह शर्मा, रेखा सिंह, ममता सिंह, अर्चना शर्मा, राजेश कुमार सिंह, रविंद्र कुमार पांडेय, राजेश कुमार, आलोक कुमार सिन्हा, लल्लन यादव, दीपक शरण, निर्मल प्रसाद, मिथिलेश कुमार, सुशील सिंह, उमेश कुमार राणा, मुकेश कुमार, प्रवीण कुमार राय, प्रदीप गोराई, फूलमती कुमारी, मंटू कुमार, रंजीत कुमार, प्रहलाद कुमार आदि की महत्वपूर्ण उपस्थिति रही।

You may also like

बिजली चोरी को लेकर चार पर प्राथमिकी दर्ज

बिजली चोरी को लेकर चार पर प्राथमिकी दर्ज