त्याग एवं बलिदान की प्रतिमूर्ति थे गुरु गोविंद सिंह: अरुण भामाशाह विद्यालय में मनाई गई गुरु गोविंद सिंह की जयंती

त्याग एवं बलिदान की प्रतिमूर्ति थे गुरु गोविंद सिंह: अरुण भामाशाह विद्यालय में मनाई गई गुरु गोविंद सिंह की जयंती

त्याग एवं बलिदान की प्रतिमूर्ति थे गुरु गोविंद सिंह: अरुण
भामाशाह विद्यालय में मनाई गई गुरु गोविंद सिंह की जयंत

फ़ोटो : बंरही :- गुरु गोविंद सिंह की जयंती मनाते भामाशाह स्कूल के शिक्षकगण

Barhi live : Sonu pandit  भामाशाह सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बरही में हिंदू धर्म रक्षक गुरु गोविंद सिंह की जयंती मनाई गई।

कार्यक्रम का उद्घाटन गुरु गोविंद सिंह जी के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर तथा पुष्पांजलि अर्पित कर विद्यालय के प्रधानाचार्य अरुण कुमार चौधरी द्वारा किया गया। उक्त कार्यक्रम में भाग लेते हुए आचार्य संजीव कुमार सिंह ने कहा कि भारत में बलिदानों की समृद्ध परंपरा रही है।

कार्यक्रम का संचालन नेहा मिश्रा जी के द्वारा किया गया। उक्त अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य अरुण कुमार चौधरी ने कहा कि अपने तीन पीढ़ियों का बलिदान करने वाले महान धर्म रक्षक, वीर शिरोमणि, परम त्यागी गुरु गोविंद सिंह हम लोगों के लिए सदैव प्रेरणा का स्रोत रहेंगे।

“सवा लाख में एक लड़ाऊं, चिड़ियों सो मैं बाज लड़ाऊं तबे गुरु गोविंद सिंह नाम कहाऊं” इस कथन को गुरु गोविंद सिंह ने अपने जीवन में चरितार्थ किया। कार्यक्रम में संजीव कुमार सिंह , सुनील महतो, राजू कुमार , जुली कुमारी, पुष्पा कुमारी, सुनीता कुमारी, अरुण कुमार झा, अमित कुमार झा, मुकेश कुमार आदि ने अपने विचार व्यक्त किया। कार्यक्रम का समापन शांति पाठ तथा विश्वकल्याण मंत्र के द्वारा किया गया।

कार्यक्रम में लिकेश्वर राणा, सुरेंद्र मंडल, राखी कुमारी, अंशु कुमारी सिंह, सविता कुशवाहा, गुडविल सिंह, प्रियंका भारती आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

You may also like

झामुमो विस् प्रभारी ने जिला जिला उपायुक्त को दो सूत्री मांग पत्र सौंपा

झामुमो विस् प्रभारी ने जिला जिला उपायुक्त को