उग्रवाद प्रभावित दनुआ में 3 वर्ष में भी नही बनी उपस्वास्थ्य भवन

उग्रवाद प्रभावित दनुआ में 3 वर्ष में भी नही बनी उपस्वास्थ्य भवन

चोरदाहा पंचायत के 13 गांवों के 5734 महिला-पुरुष उपचार से वंचित
उपचार के अभाव में एक वर्ष में 40 गरीबो की मौत
बरही लाइव ; चौपारण।हरेन्द्र राणा
झारखंड-बिहार के सीमा पर प्रखंड मुख्यालय से 15 किमी दूर अतिउग्रवाद प्रभावित चोरदाहा पंचायत के दनुआ में 3 वर्षो से बन रहा उपस्वास्थ्य केंद्र का भवन अधूरा है। जिसके कारण पंचायत के 13 गांव स्वास्थ्य सेवा से वंचित हो रहा है। उक्त जानकारी मुखिया ललिता देवी, उपमुखिया राजकुमार यादव ने देते हुए कहा कि इसकी शिकायत हजारीबाग डीसी और संबंधित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से किया है। पर इस पर किसी ने ठोस पहल नही किया। जिसके कारण 3 वर्षों से संवेदक आधा अधूरे के साथ ही उपस्वास्थ्य केंद्र भवन का निर्माण में घोर अनिमितता है।
          पंचायत प्रतिनिधियों ने बताया कि 2015 में प्रो कमाल इंटरप्राइजेज रांची ने 35 लाख रुपये की लागत से दनुआ में उपस्वास्थ्य केंद्र भवन का निर्माण कार्य शुरू किया। 3 वर्ष बाद भी भवन का निर्माण कार्य अधूरा है। गांव के कुछ बिचौलियों के सहयोग से संवेदक भवन का निर्माण करवा रहा था। आज तक उपस्वास्थ्य केंद्र अधूरा है।
           पंचायत प्रतिनिधियों ने कहा कि पंचायत के सभी गांवों में स्वास्थ्य सेवा के घोर अभाव के कारण पिछले एक वर्ष में 40 से अधिक गरीब, असहाय ग्रामीणों की मौत डायरिया, मलेरिया सहित अन्य बीमारियों से हो गई। मुखिया ने बताया कि पंचायत की आबादी 5 हजार 7 सौ 34 है। जो जंगल, पठार, नदी, नालो के बीच बसे गांव सिकदा, डोडिया, मोरनिया, चोरदाहा, अहरी, सिलोदर, मूर्तिया, कविलास, गरमोरवा, दनुआ, सांझ, मैनुखर, कोठो डूमर, नावाडीह में रहते है।
       पंचायत के 7108 हेक्टेयर में 1003 परिवार रहते है। जिसमे महिलाओं की संख्या 2861 और पुरुषों की संख्या 2873 है। पंचायत के कुछ गांवों और जंगल पठार में 1364 झारखंड के मूल वासी आदिम जनजाति बिरहोर और आदिवासी रहते है। अनुसूचित जाति की संख्या 2727 है। स्वास्थ्य केंद्र का भवन नही रहने के कारण पंचायत में कार्यरत एएनएम सुलेखा कुमारी चोरदाहा में भाड़े की मकान में रह रही हैं। जिसके कारण ग्रामीणों को स्वास्थ्य सेवा के लिए कई परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है।
    इस संबंध में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा प्रभारी डॉ उपेंद्र दास ने कहा कि निविदा से संवेदक द्वारा दनुआ उपस्वास्थ्य केंद्र भवन का कार्य किया गया है। भवन निर्माण कार्य स्वास्थ्य विभाग से नही कराई गई है। इसलिए संवेदक और भवन के बारे में कुछ बताना संभव नही है। सामुदायिक अस्पताल से चोरदाहा की दूरी अधिक रहने से ग्रामीण मरीजो को अस्पताल तक मरीजो को आने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

You may also like

कार्यकर्ता प्रखंड में समन्वय बनाकर चुनाव की तैयारी करें : मनोज

प्रखंडस्तरीय बूथ समिति व कार्यकर्ता सम्मेलन में उमड़े