वेक्टर क्लासेस ने मनाया सांतवां वार्षिकोत्सव

वेक्टर क्लासेस ने मनाया सांतवां वार्षिकोत्सव

वेक्टर क्लासेस ने मनाया सांतवां वार्षिकोत्सव

बच्चें अनुशासन व संयम रखकर अपने लक्ष्य की प्राप्ति कर सकते हैं : अरुणा कुमारी

किताब ही जीवन के सबसे बेहतर दोस्त : रोहित कुमार सिंह

Barhi live : Sonu pandit  बरही हजारीबाग रोड में स्थित इंटर विज्ञान पर संचालित वेक्टर क्लासेस ने प्रखण्ड स्थित पूर्वी पंचायत भवन में संस्थान का सांतवां वर्षगांठ मनाया गया।

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बीडीओ अरुणा कुमारी, सर्किल इंस्पेक्टर रोहित कुमार सिंह, बीएसए संरक्षक अब्दुल मनान वारसी, बरही पूर्वी मुखिया छोटन ठाकुर, पप्पू चंद्रवंशी शामिल हुए।

कार्यक्रम की शुरुआत फीता काटकर व अतिथियों को बुके देकर किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थान के निदेशक दीपक गुप्ता व संचालन अंजली केशरी व शीतल केशरी ने संयुक्त रूप से किया।

कार्यक्रम में राजेश यादव, आर्यन कुमार, शिव राम, दिलीप राणा, शीतल केशरी, अंजली केशरी, कृष्ण राणा, राकेश रौशन को सम्मान के रूप में उपहार देकर सम्मानित किया।

बरही बीडीओ अरुणा कुमारी ने छात्र छात्राओं को संयमित व अनुशासन का परिचय देते हुए अपने लक्ष्य को हासिल कर सकते हैं। उन्होंने बच्चो को मोबाइल से दूर रहने का सलाह देते हुए कहा कि वर्तमान दौर में मोबाइल के कारण बच्चो का पढ़ाई काफी प्रभावित हो रहा हैं। सोशल मीडिया से भी बचने का उन्होंने सलाह दिया।

बरही सर्किल इंस्पेक्टर रोहित कुमार सिंह ने छात्रों को कहा कि बेहतर शिक्षा से जीवन में हर मंजिल पर पहुँचा जा सकता है और अपने बेहतर भविष्य से माता पिता को अच्छे मेहनत से गौरवान्वित करने की बात उन्होंने कही।

उन्होंने बताया कि दोस्त बनाने से अच्छा हैं कि किताब को अपना दोस्त बनाये, तांकि कुछ अच्छा सीखकर अपने लक्ष्य को प्राप्त करें। अपेम के मुख्य सलाहकार डॉ अनिल कुमार ने कहा कि संसार के सभी प्राणियों में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ माना गया है।

इसकी वजह भी साफ है। दरअसल, मनुष्य में ईश्वर ने सोचने की शक्ति तथा सही गलत का निर्णय करने की क्षमता प्रदान की है। मनुष्य अपने भविष्य के बारे में कल्पना कर सकता है, योजनाएं बना सकता है।

किन्तु उन योजनाओं को प्राप्त हर व्यक्ति नहीं कर पाता, बल्कि वही कर सकता है जो अपने लक्ष्य को लेकर चल सके। संस्कारों के साथ अपने उद्देश्यों की प्राप्ति के प्रति सजग हो, क्योंकि जिनका लक्ष्य नहीं होता, उनका जीवन उस भटकती हुई नौका के समान डगमगाता रहता है जो लहरों में हिचकोले खाती रहती हैं और कभी किनारे तक नहीं पहुंच पाती।

ऐसे में जीवन की शुरुआत से लेकर जीवन के अंत तक सिवाए मुश्किलों के कुछ हासिल नहीं होता। बीएसए संरक्षक अब्दुल मनान वारसी ने खेलकूद का महत्व, जीवन में आगे बढ़ने के लिए परिश्रम और धैर्य की महत्व पर प्रकाश डाला।

उन्होंने विद्यार्थियों को कहा कि लगन और अनुशासन से लगातार परिश्रम करते हुए किसी भी लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। मौके पर संस्थान निदेशक दीपक कुमार गुप्ता ने सांतवां वर्षगांठ पर शिक्षकों को सभी छात्रों को शुभकामनाएं देते हुए 2014 के बाद की संस्थान की उपलब्धियां गिनाई।

शिक्षा के प्रति सभी छात्रों को कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करते हुए किताब को अपने जीवन का बेहतर दोस्त बताया। कार्यक्रम के अंत में निदेशक दीपक गुप्ता सहित सभी शिक्षकों व छात्र छात्राओं ने संयुक्त रूप से केक काटकर धूमधाम से मनाया।

मौके पर रितेश कुमार, सदाब अंसारी, गौरव, आदिल, राज कुमार, अभिनन्दन, सन्नी, गौतम, प्रशांत, रोहित, अनिकेत, पियूष, कृति, आकांक्षा, अंजली, खुशी, अन्नू, लबली, साधना, स्वेता, नेहा, त्रक्क्षा, बबली, सिया सहित कई छात्र छात्राएं मौजूद थे।

You may also like

भाजयुमो की नवगठित टीम के साथ जिलाध्यक्ष ने किया बैठक, पार्टी के उद्देश्यों को जनजन तक पहुंचाने का दिया निर्देश

भाजयुमो की नवगठित टीम के साथ जिलाध्यक्ष ने